इश्क मे मैने ये कैसी ठोकर पाई

इश्क में मैने ये कैसी ठोकर पाई
की थी मुहब्बत और मिली बेवफाई
ए खुदा अगर अंजाम ए ईश्क ये था
तो क्यों लिखी मेरे किस्मत मे मुहब्बत और फिर जुदाई

Comments

Popular posts from this blog

नहीं है जिंदगी  शिकायत तुझसे कुछ भी