Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2016

दिल से कोई चाहे ऐसी चाहत कहाँ होती है

नफरत भरी दुनिया में मुहब्बत कहाँ होती है
दिल तो मिलते हैं मगर ईबादत कहाँ होती है
मिल कर बिछङ जाते हैं यहाँ पर दिल
दिल से कोई चाहे ऐसी चाहत कहाँ होती है

मेरे अंदर कुछ हलचल बस युँ ही चलती है

मेरे अंदर कुछ हलचल बस युँ ही चलती है
तेरे बिन मेरी जिँदगी बस माचिस सी जलती है
पास मेरे तुम हो तो परवाह नहीँ अब दुनिया की
मेरी साँसे भी शायद तेरे साँसोँ से चलती है

तु सामने बैठो तुझे एक गीत लिखुँगा

तुझे दिल तुझे धङकन तुझे जानम मैँ लिखुँगा
तुझे सावन तुझे बादल तुझे रिमझिम मैँ लिखुँगा
जो तेरे लब छु गए मेरे लबोँ से अब
तुझे अपनी मुहब्बत की तकदीर मैँ लिखुँगा
रहा जाता नहीँ अब बिन तेरे मेरी जाँ ये तु सुन ले
तु सामने बैठो तुझे एक गीत लिखुँगा

वफा मैनेँ की है वफा चाहता हुँ

वफा मैनेँ की है वफा चाहता हुँ
खुद से भी ज्यादा मैँ तुझे चाहता हुँ
ना दिन की फिकर ना रात का गम है
जो केवल तुझे देखे वो नजर चाहता हुँ
बैठे रहो तुम पास मेरे ना हो दुरियाँ
जुदा ना हो हम कभी ऐसा हमसफर चाहता हुँ