Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2015

तेरी बाहों मे अक्सर मै सब कुछ भुल जाता हुँ

तेरी बाहोँ मे अक्सर मै सब कुछ भुल जाता हुँ
दुआओ मे खुदा से बस तुझे माँगता हुँ
तेरे बगैर तन्हाई भी मुझे रास नही आती
दुर गर हो जाऊँ मिलने की वजह माँगता हुँ
मेरी साँसे भी अब नाराज रहती है मुझसे
दुर तुम हो तो कहाँ जान रहती है मुझमे
सजदे मे सिर्फ तुझे माँगता हुँ
तेरी बाहो मे अक्सर मै सब कुछ भुल जाता हुँ
कब मालुम नही मगर जरुरत बन गई हो मेरी
हर वक्त मेरे सामने तस्वीर रहती है तेरी
तेरी जुल्फों मे उलझने को जी चाहता है
तेरी बाहो मे अक्सर मै सब कुछ भुल जाता हुँ

परवाने है हम जलने का हुनर रखते है

कितने भी जख्म दे दे तु काँटे ,
मेरे इरादे को तुम बदल नहींं सकते।
मेरी पसंद तो गुलाब है.
इसे तुम मुझसे छिन नहींं सकते।।
कैसे बताउँ चाहत की खबर दुनिया वाले से,
ये हैंं कि मुहब्बत करने वाले को जीने नही देते ।
इजहार ए मुहब्बत तो नैनोंं से की थी हमने ,
मगर ये अश्क नैनों से रुकने नहींं देते ।।
समझा दो खुदा तुम जमाने वाले को ,
हम आशिक हैंं किसी के रोके रुक नहीं सकते ।
लाख आजमा ले रंजिश ए ईश्क
हम जख्म सह लेंगे मगर झुक नहींं सकते ।।
कोई क्या डराएगा मुहब्बत करने वाले को ,
हम तो दिवाने है डर नहींं सकते।
लोग कहते हैंं जुदाई के गम मे जलोगे तुम दोनो,
इन्हे बता दो परवाने है हम जलने का हुनर रखते है ।।जमाना क्या मिटाएगी हम मुहब्बत करने वाले को,
ईश्क मे हम साथ जिने मरने का भी हूनर रखते हैं ।।
प्रेषक :- सुब्रत आनंद