Thursday, 30 July 2015

दिल कल भी तुम्हारा था दिल अब भी तुम्हारा है


जब से दिखाए हैं तुने चाहत के दिन,

तेरे बिना नही एक पल गँवारा है।

सुन सको तो सुनना मेरे धङकन की तलब,

दिल कल भी तुम्हारा था दिल अब भी तुम्हारा है ।

क्योंं सोचते हो तुम अब मुझे तुमसे प्यार नहीं

भला वो भी कभी दुर हो सकता है जो रग-रग मे समाया है ।

भुल नही पाया एक पल भी तुमको,

मेरे हर ओर तेरा ही साया है ।

हो सके तो लौट आना तुम मेरी जिन्दगी मे

तेरे लिए मैने एक-एक पल सँवारा है ।

ये कुदरत भी कैसे-कैसे खेल दिखाती है हमे

एक बार तो गलती कर दी अब ना कहुँगा ये वक्त हमारा है ।।

Featured post

अब तो बस जहाँ देखुँ तेरा ही चेहरा रहता है

हर लम्हा मेरे आसपास तेरी यादोँ का पहरा रहता है ये वक्त भी ना जाने अब कहाँ ठहरा रहता है ना रात को करार है ना दिन को सकून है अब तो बस जहाँ ...